‘‘सच्चाई-निर्भिकता, प्रेम-विनम्रता, विरोध-दबंगता, खुशी-दिल
से और विचार-स्वतंत्र अभिव्यक्त होने पर ही प्रभावी होते है’’
Powered by Blogger.
 

पेड़

4 comments


इंसानों से बड़ा पेड़
                      मगर ज़मी से जुड़ा पेड़ !
इंसानों की खातिर फिर
                       कितने तुफानो से लड़ा पेड़ !
धरती  की भूमि पर .............
                         चित्र सरीखे खड़ा पेड़ !
जाने किसके इंतजार मै ............
                         सड़क किनारे खड़ा पेड़ !
पंडित और मोलवी की बाते सुन
                            पल भर न डिगा पेड़.!..
धूप रोक फिर छाया देकर ........
                          फ़र्ज़ निभा फिर झड़ा पेड़ !
सीने मै रख हवा बसंती
                           आंधी मै फिर उड़ा पेड़ !
खेतो मै पानी लाने को
                           बादल से जा भीड़ा  पेड़ !
फल खाए जिसने उसने ही काटा 
                           जान शर्म से गड़ा पेड़ !
इंसा की जरूरतों को पूरा करते  ...........
                           कटा ज़मी पर पड़ा पेड़ !
 
Swatantra Vichar © 2013-14 DheTemplate.com & Main Blogger .

स्वतंत्र मीडिया समूह