‘‘सच्चाई-निर्भिकता, प्रेम-विनम्रता, विरोध-दबंगता, खुशी-दिल
से और विचार-स्वतंत्र अभिव्यक्त होने पर ही प्रभावी होते है’’
Powered by Blogger.
 

प्यारा सा संवाद

6 comments


हर दम तो साथ - साथ रहता है !
जेसे हमसे  ही वो कुच्छ कहता है !
माँ भी तो हर दम जान जाती है !
इशारों - इशारों मै सब कुछ  बताती है !



जब वो थोडा और बड़ा होता है !
घुटनों के बल इधर - उधर डोलता है !
माँ का दम ही निकल जाता है ,
जब वो थोडा सा भी रोता है !






जब वो स्कूल को निकलता है !
माँ के पल्लू  से हरदम लिपटता है !
लगता है जेसे माँ से बिछड़ने का ........
हरदम उसे खोफ सा ही रहता है !





जब जवानी मै पांव वो रखता है !
यारों दोस्तों से जब वो मिलता है !
तब माँ के उस एहसास को............... 
थोडा - थोडा सा अब वो खोने  लगता है !





अब माँ का आशीर्वाद फिर वो पाता है !
घर मै प्यारी दुल्हन ले के आता है !
उसके साथ रंग - बिरंगे सपने देख कर 
फिर वो एक नया संसार बसाता  है !

6 Responses so far.

  1. Sagar says:

    wah wah mai to badaa fan ho gaya aapke since kaa

  2. सुंदर भावाभिव्यक्ति.....

  3. Nice,, par budhape ko dikhana bhool gayee aap

 
Swatantra Vichar © 2013-14 DheTemplate.com & Main Blogger .

स्वतंत्र मीडिया समूह