‘‘सच्चाई-निर्भिकता, प्रेम-विनम्रता, विरोध-दबंगता, खुशी-दिल
से और विचार-स्वतंत्र अभिव्यक्त होने पर ही प्रभावी होते है’’
Powered by Blogger.
 

मनुष्य कि स्मृति

5 comments



मनुष्य कि सोच अदभुत , मगर भ्रामक उपकरण होती है !
हमारे  भीतर रहने वाली स्मृति न तो पत्थर पर उकेरी गई 
कोई पंक्ति है और न ही एसी कि समय गुजरने के साथ 
धुल जाये , लेकिन अक्सर वह बदल जाती है , या कई बाहरी 
आकृति से जुड़ जाने के बाद बढ जाती है !

5 Responses so far.

  1. Anonymous says:

    This is a fantastic piece, I discovered your site browsing aol for a similar topic and came to this. I couldnt find to much other details on this article, so it was nice to find this one. I will probably be back to look at some other posts that you have another time.

  2. Anonymous says:

    namentlich auch in solchen Gegenden,

 
Swatantra Vichar © 2013-14 DheTemplate.com & Main Blogger .

स्वतंत्र मीडिया समूह