‘‘सच्चाई-निर्भिकता, प्रेम-विनम्रता, विरोध-दबंगता, खुशी-दिल
से और विचार-स्वतंत्र अभिव्यक्त होने पर ही प्रभावी होते है’’
Powered by Blogger.
 

संघ पारिभाषिक शब्दावली

6 comments
सरसंघचालक - संघ के मार्गदर्शक
सरकार्यवाह - संघ के निर्वाचित सर्वोच्च पदाधिकारी
संघ चालक - स्थानीय कार्य व कार्यकर्ताओं के पालक
मुख्य शिक्षक - नित्य चलने वाली शाखा के कार्यक्रमों को संचालित करने वाला।
कार्यवाह - शाखा क्षेत्र का प्रमुख।
गटनायक - शाखा क्षेत्र के एक छोटे भौगोलिक भाग का प्रमुख।
प्रचारक - संघ कार्य हेतु पूर्णतः समर्पित जीवनदानी कार्यकर्ता।
शाखा - संस्कार निर्माण हेतु नित्य प्रति का एकत्रीकरण।
उपशाखा - एक स्थान पर चलने वाली विभिन्न शाखाएँ।
बैठक - विचार मंथन व सामूहिक निर्णय प्रक्रिया हेतु एकत्र बैठने की प्रक्रिया।
बौद्धिक - वैचारिक प्रबोधन का कार्यक्रम/भाषण।
समता - अनुशासन के प्रशिक्षण हेतु शारीरिक कार्यक्रम।
सम्पत - कार्यक्रम प्रारम्भ करने हेतु स्वयंसेवकों को निश्चित् रचना में खड़ा करने की आज्ञा।
विकिर - शाखा कार्यक्रम के समाप्ति की अंतिम आज्ञा।
दण्ड - लाठी
चंदन - एकसाथ मिल बैठकर जलपान करना।
सहभोज - अपने.अपने घर से लाये भोजन को एकसाथ मिल बैठकर खाना।
शिविर - केम्प
संघशिक्षा वर्ग - संघ की कार्यपद्धति सिखानें हेतु क्रमबद्ध त्रिवर्षीय प्रशिक्षण योजना।
सार्वजनिक समारोप - शिविर तथा वर्ग का अंतिम सार्वजनिक कार्यक्रम।
रवानगी समारोप - समारोप वर्ग का केवल शिक्षार्थियों के लिए दीक्षांत कार्यक्रम।

6 Responses so far.

  1. खुबसूरत जानकारी देने के लिए शुक्रिया |

  2. Anonymous says:

    The clarity in your post is simply striking and i can assume you are an expert on this subject.

  3. Anonymous says:

    llevar la vida de la manera adecuada.

 
Swatantra Vichar © 2013-14 DheTemplate.com & Main Blogger .

स्वतंत्र मीडिया समूह