‘‘सच्चाई-निर्भिकता, प्रेम-विनम्रता, विरोध-दबंगता, खुशी-दिल
से और विचार-स्वतंत्र अभिव्यक्त होने पर ही प्रभावी होते है’’
Powered by Blogger.
 

एक आम बेरोजगार आंदोलनकारी

13 comments

मुझे भी चाहिए दिल्ली का बिल
मुझे भी चाहिए भारत रत्न
मैंने भी की है भूख हड़ताल
चिल्लाया मैं भी भ्रष्टाचार-भ्रष्टाचार
मेरी आवाज डरा न पायी
क्यूंकि मीडिया के कान में जू न आई
तुमने धीरे से आवाज लगाई
गूंजी-गली-गली जैसे सहनाई
तुम हो सच्चे भारत रत्न अन्ना भाई
मीडिया और तुम हो भाई-भाई
मुझको भी उनका मित्र बना दो
जैसे तुमने की मेरी सेटिंग करा दों
भूषण बेटा-पापा को हीरो बनाया
मुझे तो बस उनका चपरासी बना दो

13 Responses so far.

  1. Anonymous says:

    i have visited this site a couple of times now and i have to tell you that i find it quite nice actually. keep it up!

  2. Anonymous says:

    impugna la prolongacion irresponsable de la vida,

 
Swatantra Vichar © 2013-14 DheTemplate.com & Main Blogger .

स्वतंत्र मीडिया समूह